PM SHRI Yojana: पीएम श्री योजना की हुई शुरुआत, जुड़ेंगे देश के 14 हजार से ज्यादा स्कूल

हमारे देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने पुराने स्कूलों को नया रूप देने और बच्चों को स्मार्ट शिक्षा से जोड़ने के लिए एक नई योजना शुरू करने की घोषणा की है। इस योजना का नाम पीएम श्री योजना है। जिसकी घोषणा प्रधानमंत्री ने सोमवार, 5 सितंबर 2022 को शिक्षक दिवस के अवसर पर एक ट्वीट के माध्यम से की है। इस ट्वीट में उन्होंने कहा है कि “आज शिक्षक दिवस पर एक नई पहल की घोषणा करते हुए मुझे खुशी हो रही है. राइजिंग इंडिया के लिए प्रधान मंत्री स्कूल (पीएम-एसएचआरआई) योजना के तहत, पूरे भारत में 14500 स्कूलों का विकास और उन्नयन किया जाएगा। ये सभी मॉडल स्कूल बनेंगे और इनमें राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) की पूरी भावना समाहित होगी। तो आइए अपने इस लेख के माध्यम से जानिए कि सरकार द्वारा पीएम श्री योजना क्यों शुरू की जा रही है? इसके साथ ही पीएम श्री योजना से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए कृपया हमारा यह लेख भी पढ़ें।

पीएम श्री योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की है। इस योजना के माध्यम से पूरे भारत में 14500 पुराने स्कूलों का उन्नयन किया जाएगा। इस योजना के माध्यम से उन्नत विद्यालयों में शिक्षा प्रदान करने का एक आधुनिक, परिवर्तनकारी और समग्र रूप लाया जाएगा। इसमें नवीनतम तकनीक, स्मार्ट क्लास, खेल और आधुनिक बुनियादी ढांचे पर विशेष जोर दिया जाएगा। प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में बताया है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति ने हाल के वर्षों में शिक्षा क्षेत्र में बदलाव किया है, मुझे यकीन है कि पीएम श्री स्कूल एनईपी की भावना से पूरे भारत में लाखों छात्रों को लाभान्वित करेंगे। पीएम श्री योजना के माध्यम से पुराने स्कूलों के ढांचे को सुंदर, मजबूत और आकर्षक बनाया जाएगा। कुछ जानकारी के अनुसार देश के प्रत्येक ब्लॉक में कम से कम एक पीएम श्री स्कूल स्थापित किया जाएगा और इस योजना के साथ देश के प्रत्येक जिले में एक माध्यमिक और वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय भी जोड़ा जाएगा।

पीएम श्री योजना के तहत महाराष्ट्र में खुलेंगे 846 स्कूल

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने 14 फरवरी को कहा कि प्रधान मंत्री स्कूल फॉर राइजिंग इंडिया योजना के तहत, महाराष्ट्र में 846 स्कूलों को उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा प्रदान करने के लिए प्रमुख संस्थानों में विकसित किया जाएगा। जिसके लिए राज्य सरकार ने केंद्र सरकार के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। पहले चरण में पीएम श्री योजना के तहत भारत में 1500 से अधिक स्कूल खोले जाएंगे। महाराष्ट्र में 846 स्कूल विकसित किए जाएंगे।

पीएम श्री योजना में भाग लेने के लिए इस समझौते के अनुसार महाराष्ट्र सरकार राज्य में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 लागू करेगी। इस योजना में केंद्र सरकार की 60 प्रतिशत हिस्सेदारी शामिल होगी। इस योजना के तहत प्रत्येक स्कूल को 5 वर्ष तक एक करोड़ 88 लाख रुपये की राशि दी जाएगी। यानी इन स्कूलों में 5 साल के लिए केंद्र सरकार की हिस्सेदारी 955 करोड़ 98 लाख रुपये और राज्य की हिस्सेदारी 40% यानी 634 करोड़ 50 लाख रुपये होगी. यानी केंद्र सरकार प्रत्येक स्कूल को 5 साल के लिए 75 लाख रुपये आवंटित करेगी। दूसरे चरण में पीएम श्री स्कूलों के विकास के लिए 408 समूहों, 28 नगर निगमों और 383 नगर पालिकाओं और नगर परिषदों के स्कूलों का चयन किया जाएगा।

पीएम-श्री योजना के लिए 27,360 करोड़ स्वीकृत

स्कूलों में खुशी! स्कूल के उन्नयन और पुनर्गठन में बड़ा निवेश। इस पहल से केंद्र सरकार, केंद्र शासित प्रदेश राज्य और स्थानीय स्कूलों को फायदा होगा। 18 लाख से अधिक छात्रों के योजना के प्रत्यक्ष लाभार्थी होने की उम्मीद है। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पांच साल में 14,500 स्कूलों के उन्नयन के लिए पीएम-श्री परियोजना को मंजूरी दी और इसके लिए कुल 27,360 करोड़ रुपये दिए गए। केंद्र रुपये प्रदान करेगा। पहल के लिए 18,128 करोड़। डीबीटी फंडिंग सीधे स्कूलों में जाएगी।

प्रधानाध्यापक और स्कूल समितियाँ यह तय कर सकती हैं कि वे अपनी नकदी का 40% कैसे खर्च करें। पर्यावरण हितैषी का प्रयोग कर ‘ग्रीन’ होंगे स्कूल ये स्कूल इस योजना के तहत पर्यावरण परंपराओं और प्रथाओं आदि का भी परीक्षण करेंगे। स्कूल स्वयं योजना के आधिकारिक वेब पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करते हैं। चयन प्रक्रिया में तीन चरण होते हैं। राज्य या केंद्र शासित प्रदेश एनईपी को पूरी तरह से अपनाने के लिए सहमत हैं, और केंद्र स्कूलों को गुणवत्ता आश्वासन हासिल करने में मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है।

PM SHRI Scheme Key Highlight Features

योजना का नाम पीएम श्री योजना
घोषित की गई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा
घोषित दिनांक 5 सितंबर 2022 टीचर्स डे पर
उद्देश्य भारत के पुराने स्कूलों को अपग्रेड करना
कितने स्कूल अपग्रेड किए जाएंगे 14,500 स्कूल
साल 2022
योजना का प्रकार केंद्र सरकारी योजना

पीएम श्री योजना के तहत 14,500 स्कूलों का होगा अपग्रेडेशन

इस योजना के माध्यम से भारत के लगभग 14500 पुराने स्कूलों का उन्नयन किया जाएगा। इन पुराने विद्यालयों का उन्नयन करते समय आधुनिक सौन्दर्य संरचना, स्मार्ट क्लासरूम, खेलकूद सहित आधुनिक अधोसंरचना सुविधाओं पर विशेष बल दिया जायेगा। ये सभी स्कूल देश के सभी राज्यों में स्थापित होने वाले केंद्रीय विद्यालयों की तर्ज पर स्थापित किए जाएंगे। पीएम श्री योजना के तहत केंद्र सरकार 14500 स्कूलों के उन्नयन का खर्च वहन करेगी और राज्य सरकार को योजना को लागू करने और निगरानी की जिम्मेदारी दी जाएगी। इस योजना के तहत अपग्रेडेड स्कूल के माध्यम से आम लोगों के बच्चों को अच्छी शिक्षा प्राप्त करने का मौका मिलेगा। जिससे उनका भविष्य निखरेगा और वे भी शिक्षित होकर भारत के विकास में अपनी भूमिका निभा सकेंगे।

PM SHRI Yojana का उद्देश्य

पीएम श्री योजना का मुख्य उद्देश्य भारत के 14,500 पुराने स्कूलों को अपग्रेड करना है। ताकि इन स्कूलों को नया रूप देकर बच्चों को स्मार्ट एजुकेशन से जोड़ा जा सके। पीएम श्री योजना के तहत अपग्रेड किए गए पीएम श्री स्कूल राष्ट्रीय शिक्षा नीति के सभी घटकों को दर्शाएंगे और मॉडल स्कूलों के रूप में काम करेंगे। इसके अलावा अन्य विद्यालयों का भी मार्गदर्शन करेंगे। पीएमओ ने कहा है, “इन स्कूलों का उद्देश्य न केवल गुणवत्तापूर्ण शिक्षण, शिक्षा और संज्ञानात्मक विकास होगा, बल्कि 21वीं सदी की कौशल आवश्यकताओं के अनुरूप समग्र और पूर्ण नागरिकों का निर्माण करना भी होगा।” अब गरीब बच्चे भी पीएम श्री योजना के माध्यम से स्मार्ट स्कूलों में शामिल हो सकेंगे, जिससे भारत के शिक्षा क्षेत्र को एक अलग पहचान मिलेगी।

PM SHRI School में क्या-क्या खास होगा

  • पीएम श्री योजना के तहत अद्यतन पीएम श्री स्कूलों में नवीनतम तकनीक, स्मार्ट शिक्षा और आधुनिक बुनियादी ढांचा होगा।
  • पीएमश्री स्कूलों में राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) के सभी घटकों की झलक होगी।
  • ये स्कूल अपने आसपास के अन्य स्कूलों का भी मार्गदर्शन करेंगे।
  • इन स्कूलों में प्री-प्राइमरी से लेकर 12वीं तक की पढ़ाई होगी।
  • इसके अलावा इनमें अत्याधुनिक लैब की स्थापना की जाएगी। ताकि किताबों के अलावा छात्र अभ्यास से भी सीख सकें।
  • प्री-प्राइमरी और प्राइमरी के बच्चों के लिए खेलों पर फोकस रहेगा। जिससे उनका शारीरिक विकास हो सके।
  • यह योजना आधुनिक आवश्यकताओं के अनुसार पीएम श्री स्कूलों का उन्नयन करेगी। जिससे बच्चों की
  • आधुनिक जरूरतें पूरी होंगी और वे अच्छे वातावरण में शिक्षा ग्रहण कर सकेंगे।

Leave a Comment