NREGA Job Card कैसे देखें ? मनरेगा योजना क्या है ? List Download करें

मनरेगा योजना की शुरुआत कांग्रेस सरकार ने देश के गरीब परिवारों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए की थी, लेकिन इसे राष्ट्रीय स्तर पर हर राज्य की सरकार और वर्तमान भाजपा सरकार ने भी अपनाया है। इस योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को रोजगार प्रदान किया जाता है। ताकि उन्हें रोजगार के लिए गांव से दूर न जाना पड़े। यह योजना देश के सभी राज्यों में संचालित ग्राम पंचायत स्तर पर लोगों को बहुत मदद कर रही है। मनरेगा योजना से अब तक देश के करोड़ों नागरिकों को लाभ मिल चुका है। आज इस लेख के माध्यम से हम आपको मनरेगा योजना से संबंधित जानकारी प्रदान करेंगे जैसे मनरेगा योजना क्या है?, मनरेगा जॉब कार्ड क्या है?, उद्देश्य, लाभ और योजना की विशेषताएं, पात्रता आवश्यक दस्तावेज और जॉब कार्ड के लिए आवेदन कैसे करें?

MGNREGA Yojana 2023

मनरेगा योजना भारत सरकार द्वारा रोजगार गारंटी योजना के रूप में लागू की जाती है। इस योजना को 7 सितंबर 2005 को विधानसभा में पारित किया गया था। इसके बाद 2 फरवरी 2006 को 200 जिलों में मनरेगा योजना शुरू की गई। मनरेगा योजना को शुरू में राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (नरेगा) कहा जाता था। लेकिन 2 अक्टूबर 2009 को इसका नाम बदलकर महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम कर दिया गया। मनरेगा योजना दुनिया की एकमात्र ऐसी योजना है जो नागरिकों को 100 दिनों के रोजगार की गारंटी देती है। यह योजना देश के गरीब और बेरोजगार परिवारों की आजीविका के लिए शुरू की गई है। केंद्र सरकार ने इस योजना के संचालन के लिए वित्तीय वर्ष 2010-11 में 40,100 करोड़ रुपये आवंटित किए। इस योजना के माध्यम से निम्न आय वर्ग के लोगों को उनके ग्राम पंचायत में ही रोजगार उपलब्ध कराया जाता है। जिससे उनका पलायन काफी हद तक रोका जा सकता है। इस योजना के तहत व्यक्ति को रोजगार पाने के लिए सबसे पहले रजिस्ट्रेशन कराना होता है। रजिस्ट्रेशन के बाद मनरेगा जॉब कार्ड दिया जाता है। कार्ड धारक को मनरेगा जॉब कार्ड के माध्यम से 100 दिन का रोजगार पाने का अधिकार मिलता है।

नरेगा से जुड़ी जानकारी

MGNREGA Yojana का उद्देश्य

भारत सरकार द्वारा मनरेगा योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण नागरिकों को उनके निवास के पास 100 दिनों का रोजगार उपलब्ध कराना है। ताकि ग्रामीणों के आजीविका आधार को मजबूत कर उनका सामाजिक समावेश सुनिश्चित किया जा सके और साथ ही इस योजना के माध्यम से ग्राम पंचायत स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराकर अन्य शहरों में पलायन को रोका जा सके। इस योजना के तहत ग्रामीण गरीबों के आजीविका आधार को मजबूत कर बुनियादी ढांचे का निर्माण किया जाता है। गरीब परिवार की आजीविका को मजबूत करने और आय बढ़ाने के लिए मनरेगा योजना शुरू की गई है। जिसका मुख्य लक्ष्य समाज के कमजोर वर्ग को मुख्यधारा में शामिल करना और भारत में पंचायती राज संस्थाओं को और मजबूत करना है।

मनरेगा योजना 2023 Key Highlights

योजना का नाम   MGNREGA Yojana
शुरू की गई   भारत सरकार द्वारा
योजना का आरंभ   2 फरवरी 2006
लाभार्थी   देश के बेरोजगार नागरिक
उद्देश्य   ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोगों को निवास स्थान के समीप रोजगार प्रदान करना
लाभ   100 दिन का रोजगार गारंटी
श्रेणी केंद्र सरकार योजना  
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन  
आधिकारिक वेबसाइट    https://nrega.nic.in/netnrega/

मनरेगा जॉब कार्ड क्या है?

रोजगार पाने के लिए मनरेगा जॉब कार्ड प्राथमिक दस्तावेज है। जिससे एक मजदूर की पहचान होती है। मनरेगा जॉब कार्ड मनरेगा योजना के तहत स्थानीय ग्राम पंचायत के साथ पंजीकृत है। इस जॉब कार्ड में पंजीकृत व्यक्ति का नाम, नरेगा पंजीकरण संख्या, घर में आवेदकों की जानकारी आदि दी जाती है। नरेगा जॉब कार्ड श्रमिक के अधिकारों के दस्तावेजी प्रमाण के रूप में भी कार्य करता है। नरेगा जॉब कार्ड ग्रामीण परिवारों के नागरिकों को स्थानीय क्षेत्र में ग्राम पंचायत में काम के लिए आवेदन करने की अनुमति देता है और प्रक्रियाओं की पारदर्शिता सुनिश्चित करता है ताकि श्रमिकों को धोखा न दिया जाए। बैंक खाता खोलने के लिए बैंक और डाकघर में केवाईसी पूरा करने के लिए भी नरेगा जॉब कार्ड का उपयोग किया जा सकता है।

MGNREGA Yojana के प्रावधान

  • मनरेगा योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले गरीब परिवारों को 100 दिन का रोजगार उपलब्ध कराया जाता है।
  • 14 दिन तक रोजगार नहीं मिलने की स्थिति में मनरेगा जॉब कार्ड धारकों को बेरोजगारी भत्ता दिये जाने का प्रावधान किया गया है.
  • ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को उनके निवास स्थान पर ही रोजगार उपलब्ध कराकर पलायन रोकने का प्रयास किया जाता है।
  • मनरेगा योजना के तहत काम करने वाले मजदूरों को ग्राम पंचायत के माध्यम से जॉब कार्ड जारी किए जाते हैं।
  • इस योजना के तहत पुरुषों के साथ-साथ महिलाओं को भी एक तिहाई आरक्षण देने का प्रावधान किया गया है।
  • मनरेगा योजना का संचालन ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा किया जाता है।
  • मनरेगा के तहत यदि श्रमिक का कार्य स्थल उसके घर से 5 किलोमीटर से अधिक दूर है तो श्रमिक को निर्धारित मजदूरी से 10 प्रतिशत अधिक मजदूरी का भुगतान किया जाता है।
  • श्रमिकों की प्रति दिन की मजदूरी एक राज्य से दूसरे राज्य में भिन्न होती है।
  • इस योजना के माध्यम से ग्रामीण गरीबों के आजीविका आधार को मजबूत कर ग्रामीण अधोसंरचना का निर्माण करना है।

मनरेगा योजना के लाभ एवं विशेषताएं

  • मनरेगा योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले गरीब परिवारों को 100 दिन का रोजगार प्रदान किया जाता है।
    14 दिन तक रोजगार नहीं मिलने की स्थिति में मनरेगा जॉब कार्ड धारकों को बेरोजगारी भत्ता दिये जाने का प्रावधान किया गया है.
  • ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को उनके निवास स्थान पर ही रोजगार उपलब्ध कराकर पलायन रोकने का प्रयास किया जाता है।
  • मनरेगा योजना के तहत काम करने वाले मजदूरों को ग्राम पंचायत के माध्यम से जॉब कार्ड जारी किए जाते हैं।
  • इस योजना के तहत पुरुषों के साथ-साथ महिलाओं को भी एक तिहाई आरक्षण देने का प्रावधान किया गया है।
  • मनरेगा योजना का संचालन ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा किया जाता है।
  • मनरेगा के तहत यदि श्रमिक का कार्य स्थल उसके घर से 5 किमी से अधिक दूर है, तो श्रमिक को निर्धारित मजदूरी से 10 प्रतिशत अधिक मजदूरी का भुगतान किया जाता है।
  • श्रमिकों की प्रति दिन की मजदूरी एक राज्य से दूसरे राज्य में भिन्न होती है।
  • इस योजना के माध्यम से ग्रामीण गरीबों के आजीविका आधार को मजबूत कर ग्रामीण अधोसंरचना का निर्माण करना है।

NREGA Job Card के लिए आवेदन कैसे करें?

  • सबसे पहले आपको मनरेगा की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इसके बाद आपकी वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको ग्राम पंचायत अनुभागों में जनरेट रिपोर्ट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करते ही आपके सामने सभी राज्यों की सूची आ जाएगी।
  • आप अपना राज्य चुनते हैं और उस पर क्लिक करते हैं।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुलेगा।
  • इस पेज पर आपको जानकारी दर्ज करनी होगी। जैसा
  • वित्तीय वर्ष, जिला, ब्लॉक, पंचायत आदि का चयन करना होगा।
  • इसके बाद आप आगे बढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • अब आपके सामने जॉब कार्ड के लिए रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा। जिसकी जानकारी आपने दी है जैसे-
  • गांव का नाम, परिवार के मुखिया का नाम, मासिक धर्म का नाम, लिंक, उम्र, मकान नंबर, श्रेणी और पंजीकरण की तारीख, पासपोर्ट आकार की फोटो, मोबाइल नंबर आदि देना होगा।
  • पूरी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको नामांकन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आपके मनरेगा जॉब कार्ड के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

MGNREGA Yojana के अंतर्गत कार्य

मनरेगा योजना में संचालित विभिन्न प्रकार के कार्य किए जाते हैं जिनका विवरण निम्न प्रकार है।

  • लघु सिंचाई
  • जल संरक्षण
  • भूमि विकास
  • बाढ़ नियंत्रण
  • गौशाला निर्माण कार्य
  • बागवानी
  • ग्रामीण संपर्क मार्ग निर्माण
  • विभिन्न तरह के आवास निर्माण
  • सूखे की रोकथाम के अंतर्गत वृक्षारोपण

नरेगा जॉब कार्ड में शामिल जानकारी

मनरेगा या नरेगा जॉब कार्ड लाभार्थी को प्रदान किया जाने वाला एक आवश्यक दस्तावेज है जिसमें उसके द्वारा किए गए कार्यों का विवरण दर्ज किया जाता है। जो निम्नलिखित है।

  • मनरेगा आवेदक का विवरण जैसे नाम, पिता का नाम, लिंग, बैंक खाता संख्या/डाकघर बैंक खाता संख्या, पता आदि।
    नौकरी / रोजगार रिकॉर्ड
  • नरेगा जॉब कार्ड धारक फोटो
  • उपलब्ध रोजगार की जानकारी तारीख को सहित
  • बेरोजगारी भत्ता भुगतान की जानकारी (यदि न्यूनतम रोजगार गारंटी उपलब्ध नहीं है)
  • आपको बता दें कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के तहत जॉब कार्ड धारकों को बेरोजगारी भत्ता दिया जाता है। जब 15
  • दिन बाद भी मजदूर को रोजगार उपलब्ध नहीं कराया गया है।

MGNREGA Job Card के लिए पात्रता

  • मनरेगा योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदक की आयु 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले नागरिक ही इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • जो आवेदक अकुशल कार्य करने के इच्छुक हैं वे इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।

आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड

  • पहचान पत्र

  • राशन कार्ड

  • जाति प्रमाण पत्र

  • निवास प्रमाण पत्र

  • आय प्रमाण पत्र

  • बैंक पासबुक

  • पासपोर्ट साइज फोटो

  • मोबाइल नंबर

Leave a Comment