PM Kusum Yojana UP कुसुम योजना ऑनलाइन आवेदन एप्लीकेशन फॉर्म

केंद्र सरकार द्वारा किसानों के लिए किसान ऊर्जा सुरक्षा उत्थान महा अभियान नाम से एक नई योजना शुरू की गई है जिसे हम कुसुम योजना के नाम से भी जानते हैं। हम सभी जानते हैं कि आज भी हमारे देश में किसानों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। केंद्र सरकार ने किसानों की ऐसी ही मुश्किलों को देखते हुए इस योजना की शुरुआत की है। पीएम कुसुम योजना 2023 के तहत सरकार किसानों को सिंचाई के लिए सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप मुहैया कराएगी। इस लेख के माध्यम से हम आपको प्रधानमंत्री कुसुम योजना के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करेंगे। जो लोग इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं वे इस लेख को अंत तक पढ़ें।

पीएम कुसुम योजना का उद्देश्य

पीएम कुसुम योजना का उद्देश्य देश के सभी किसानों को सिंचाई के लिए सौर ऊर्जा संचालित पंप उपलब्ध कराना है। यदि किसानों के पास सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप होंगे तो उन्हें पेट्रोल या डीजल से चलने वाले पंपों का इस्तेमाल नहीं करना पड़ेगा। और इससे पैसे भी बचेंगे और उनकी लाइफ भी बेहतर होगी। साथ ही पावर ग्रिड भी केंद्र सरकार देगी। जिसके माध्यम से किसान बिजली की बचत कर सीधे सरकार को बिजली बेच सकते हैं। इससे किसानों की आय में भी वृद्धि होगी।

PM Kusum Yojana 2023

कुसुम योजना की शुरुआत केंद्र सरकार द्वारा सभी किसानो के लिए की गई है। पीएम कुसुम योजना के तहत सिंचाई के लिए जो पंप डीजल या पेट्रोल से चलते हैं उन्हें केंद्र सरकार द्वारा सौर ऊर्जा संचालित पंपों में बदला जाएगा। पीएम कुसुम योजना के 2 फायदे हैं। सबसे पहले किसानों को डीजल या पेट्रोल से चलने वाले पंपों की जगह सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप मुहैया कराए जाएंगे। दूसरा, किसानों को इन पंप सेटों के साथ-साथ एनर्जी पावर ग्रिड भी दिए गए हैं और वे किसानों के पास जमा अतिरिक्त बिजली सीधे सरकार को भेजेंगे। और इससे किसानों की आय में भी वृद्धि होगी।

Kusum Yojana के लाभ व विशेषताएं

  • कुसुम योजना का लाभ देश का कोई भी किसान उठा सकता है। इस योजना के तहत तराई क्षेत्रों की सिंचाई के लिए सोलर पंप उपलब्ध कराए जाएंगे।
  • केंद्र सरकार ने अब तक कुसुम योजना के जरिए कम से कम तीन करोड़ पंपों को डीजल और बिजली के बजाय सौर ऊर्जा से चलाने का लक्ष्य रखा है.
  • कुसुम योजना के माध्यम से यदि किसान अतिरिक्त बिजली बचा कर किसी सरकारी या गैर सरकारी बिजली विभाग को भेजता है तो उसका खर्चा
  • किसान को मिल जायेगा. इसके जरिए किसानों को 1 महीने में 6000 रुपए तक मिल सकते हैं।
  • कुसुम योजना से कम से कम 28000 मेगावाट अतिरिक्त बिजली पैदा की जा सकती है। इस योजना के तहत पहले चरण में 17.5 लाख सिंचाई पंप सौर ऊर्जा से चलाए जाएंगे।
  • पीएम कुसुम योजना के तहत लागत का 60% केंद्र सरकार द्वारा दिया जाएगा, 30% बैंक ऋण से वित्तीय सहायता दी जाएगी या किसान को केवल 10% लागत का भुगतान करना होगा।
  • इस योजना के सफल क्रियान्वयन से डीजल की खपत कम होगी और किसानों की आय में वृद्धि होगी।
  • कुसुम योजना उन सभी राज्यों में बहुत फायदेमंद साबित होगी जहां सूखा और बिजली की समस्या है।

PM Kusum Saur Pump Yojana की विशेषताएं

  • केंद्र सरकार के माध्यम से शुरू की गई पीएम कुसुम योजना के तहत देश के किसानों की आय दोगुनी होगी और इसके अलावा सौर ऊर्जा और नवीकरणीय ऊर्जा का उपयोग कर वे आत्मनिर्भर बन सकेंगे।
  • इस योजना के तहत, किसान इन सौर पैनलों के माध्यम से उत्पन्न अतिरिक्त बिजली की आपूर्ति ग्रिड को कर सकेंगे, जिसके माध्यम से उन्हें अतिरिक्त आय प्राप्त होगी।
  • केंद्र सरकार के माध्यम से किसान को इस योजना के तहत कुल लागत का केवल 10% खर्च करना पड़ता है, इसके साथ ही 30% राशि बैंक ऋण और 60% राशि प्रदान की जाएगी।
  • किसान अपनी बंजर या अनुपयुक्त भूमि को सोलर पैनल के लिए कृषि के लिए उपयोग कर सकेंगे।
  • केंद्र सरकार ने सौर ऊर्जा से चलने वाले 17.5 लाख सिंचाई पंप लगाने का लक्ष्य रखा है, जिससे गरीब किसानों की सिंचाई की समस्या समाप्त हो जाएगी।

 महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • बैंक अकाउंट पासबुक
  • आय प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पता का सबूत
  • पासपोर्ट साइज फोटो

 पात्रता मापदंड

  • इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए आवेदक को भारत का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक इस योजना के तहत 0.5 मेगावाट से 2 मेगावाट क्षमता के सौर ऊर्जा संयंत्रों के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • इस योजना के तहत आवेदक अपनी भूमि के अनुपात में या वितरण निगम द्वारा अधिसूचित क्षमता, जो भी कम हो, के लिए 2 मेगावाट क्षमता के लिए आवेदन कर सकता है।
  • इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए आवेदक को प्रति मेगावाट लगभग 2 हेक्टेयर भूमि की आवश्यकता होगी।
  • इस योजना के तहत आवेदक को स्वयं के निवेश वाली परियोजना के लिए किसी प्रकार की वित्तीय योग्यता की आवश्यकता नहीं होगी।
  • इस योजना के अन्तर्गत यदि आवेदक द्वारा किसी विकासकर्ता के माध्यम से परियोजना विकसित की जा रही है तो विकासकर्ता की शुद्ध संपत्ति एक करोड़ रुपये प्रति मेगावाट होनी चाहिए।

कुसुम योजना के कॉम्पोनेंट्स

  • सौर पंप वितरण: इस योजना के पहले चरण के दौरान, बिजली विभाग केंद्र सरकार के विभागों के साथ मिलकर सफलतापूर्वक सौर ऊर्जा संचालित पंप वितरित करेगा।
  • सौर ऊर्जा कारखाने का निर्माणः पर्याप्त मात्रा में बिजली उत्पादन की क्षमता रखते हुए इस योजना का निर्माण किया जाएगा।
  • नलकूपों की स्थापना: सरकार द्वारा नलकूपों की स्थापना की जाएगी जिससे निश्चित मात्रा में बिजली पैदा होगी।
  • मौजूदा पंपों का आधुनिकीकरण मौजूदा पंपों का भी होगा आधुनिकीकरण कहानी पुराने पंपों की जगह नए सोलर पंप लगाए जाएंगे.

Kusum Yojana के लाभार्थी

  • किसान
  • किसानों का समूह
  • सहकारी समितियां
  • पंचायत
  • किसान उत्पादक संगठन
  • जल उपभोक्ता एसोसिएशन

Important Links

राज्य लिंक्स
आंध्र प्रदेश  यहां क्लिक करें
अरुणाचल प्रदेश  यहां क्लिक करें
असम  यहां क्लिक करें
बिहार यहां क्लिक करें
छत्तीसगढ़ यहां क्लिक करें
गोवा यहां क्लिक करें
गुजरात यहां क्लिक करें
हरियाणा यहां क्लिक करें
हिमाचल प्रदेश यहां क्लिक करें
झारखंड यहां क्लिक करें
कर्नाटक यहां क्लिक करें
केरला यहां क्लिक करें
मध्य प्रदेश यहां क्लिक करें
महाराष्ट्र यहां क्लिक करें
मणिपुर यहां क्लिक करें
मेघालय यहां क्लिक करें
मिजोरम यहां क्लिक करें
नागालैंड यहां क्लिक करें
ओडीशा यहां क्लिक करें
पंजाब यहां क्लिक करें
राजस्थान यहां क्लिक करें
सिक्किम यहां क्लिक करें
तमिल नाडु यहां क्लिक करें
तेलंगाना यहां क्लिक करें
त्रिपुरा यहां क्लिक करें
उत्तर प्रदेश यहां क्लिक करें
उत्तराखंड यहां क्लिक करें
वेस्ट बंगाल यहां क्लिक करें
अंडमान एंड निकोबार आईलैंड यहां क्लिक करें
चंडीगढ़ यहां क्लिक करें
दादर एंड नगर हवेली एंड दमन एंड दिउ यहां क्लिक करें
दिल्ली यहां क्लिक करें
जम्मू एंड कश्मीर यहां क्लिक करें
लद्दाख यहां क्लिक करें
लक्षदीप यहां क्लिक करें
पुदुचेरी यहां क्लिक करें

पीएम कुसुम योजना 2023 के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको कुसुम योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल जाएगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको “ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन” का विकल्प दिखाई देगा। आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपके सामने एक एप्लीकेशन फॉर्म खुल जाएगा। इस फॉर्म में आपको पूछी गई सभी जानकारी जैसे नाम, पता, आधार नंबर, मोबाइल आदि दर्ज करनी होगी।
  • अब आपको निर्धारित स्थान पर सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड करने होंगे। किसानों को यहां अपना आधार नंबर और राष्ट्रीयकृत बैंक खाते की स्कैन कॉपी अपलोड करनी होगी।
  • आवेदन पत्र में आपके द्वारा दर्ज सभी विवरणों की जांच करने के बाद सबमिट पर क्लिक करें। इस तरह आपका रजिस्ट्रेशन सक्सेसफुली सबमिट हो जाएगा।
  • सभी प्रक्रिया के अंत में, सौर पंप सेट की लागत का 10% विभाग द्वारा एकत्र करने के लिए चर्चा की जाएगी।
  • अगर उचित राशि दे दी जाए तो 90 से 120 दिनों के अंदर आपके खेत/जमीन पर लगा सोलर पंप चालू हो जाएगा।

Contact Information

  • Contact Number- 011-243600707, 011-24360404
  • Toll-Free Number- 18001803333

Leave a Comment

Join Telegram